Friday, 01 March 2024

 

 

खास खबरें शहर के पुलिस अधिकारियों के लिए साइबर सुरक्षा पाठ्यक्रम का सफल समापन हमें वास्तविक जीवन में उभरती प्रौद्योगिकियों की चुनौतियों को देखना चाहिए : डॉ. शांतनु भट्टाचार्य मुख्यमंत्री द्वारा पंजाब इंस्टीट्यूट ऑफ लिवर एंड बिलियरी साइंसेज का उद्घाटन पंजाब सरकार पहले पड़ाव में 260 खेल नर्सरियाँ खोलेगी: मीत हेयर चेतन कृष्णा मल्होत्रा द्वारा शिव शंकर भोले महाकाल भजन हुआ शिवरात्रि के अवसर पर टी सीरीज पर रिलीज़ लोगों को बेहतरीन स्वास्थ्य सेवाएं प्रदान कर रहे हैं आम आदमी क्लीनिक: ब्रम शंकर जिम्पा बिल का भुगतान करने के बदले 15,000 रुपए की रिश्वत लेता ई.एस.आई. क्लर्क विजीलैंस ब्यूरो द्वारा काबू डिप्टी कमिश्नर कोमल मित्तल ने ‘होशियारपुर नेचर फैस्ट-2024’ की तैयारियों का लिया जायजा हरियाणा में कबूतरबाजी पर लगाम लगाने के लिए हरियाणा टैªवल एजेंटों का पंजीकरण और विनियमन विधेयक, 2024 हुआ पारित - गृह मंत्री अनिल विज हरियाणा सरकार द्वारा भविष्य में जितने भी मैडीकल कालेज बनाए जांएगें उनमें नर्सिग कालेज भी होगा- चिकित्सा शिक्षा एवं अनुसंधान मंत्री अनिल विज होशियारपुर का सर्वांगीण विकास प्राथमिकता : ब्रम शंकर जिम्पा पंजाब के राज्यपाल बनवारी लाल पुरोहित ने सांसद विक्रम साहनी को डॉक्टरेट की मानद उपाधि प्रदान की एलपीयू द्वारा दो दिवसीय भारतीय उद्यमिता कॉन्क्लेव '24 की मेजबानी बेला कॉलेज ऑफ फार्मेसी में राष्ट्रीय विज्ञान दिवस समारोह 6 लाख रुपए की रिश्वत लेने वाला ए.एस.आई विजीलैंस ब्यूरो ने किया गिरफ्तार सदन में भाजपा सरकार जितने बिल लाती है उतने ही घोटाले साथ लेकर आते हैं: अभय सिंह चौटाला भगवंत सिंह मान ने जालंधर वासियों को 283 करोड़ के विकास प्रोजैक्टों का दिया तोहफा लोगों के लिए जवाबदेह और असरदार व्यवस्था कायम करने के लिए पंजाब पुलिस को आधुनिक राह पर लाया गया : भगवंत सिंह मान पल्लेदार राज्य के आर्थिक ढांचे का एक अहम हिस्सा: लाल चंद कटारूचक्क खेलों में पंजाब की खो चुकी शान बहाल करने के लिए राज्य सरकार की कोशिशें रंग लाईं मान सरकार पंजाब की समृद्ध सांस्कृतिक विरासत और पर्यटन को प्रफुल्लित करने के लिए यत्नशील: चेतन सिंह जौड़ामाजरा

 

उप्र में कांग्रेस को जीत दिलाएगा ब्राह्मण समाज !

Listen to this article

Web Admin

Web Admin

5 Dariya News

01 Aug 2016

राजनीतिक लिहाज से अहम राज्य उत्तर प्रदेश में कांग्रेस नए अवतार में दिखी है। 29 जुलाई को लखनऊ के रमाबाई पार्क में बूथ स्तरीय कार्यकर्ता सम्मेलन में राहुल गांधी जिस भूमिका में दिखे, वह कांग्रेस के लिए शुभ संकेत है। कांग्रेस क्या बदल रही है? क्या वह बदलाव चाहती है? उसके बदलाव का आखिर जमीनी आधार क्या है? वह किस थ्योरी पर उप्र जैसे राज्य में सपा, बसपा और भाजपा को सीधी चुनौती देना चाहती है? जो पार्टी सांगठनिक स्तर पर कमजोर और खुद में उपेक्षित हो, कार्यकर्ताओं के टूटे हुए मनोबल पर वह कैसे आगे बढ़ेगी। अब सवाल यह है कि 'पीके फार्मूला' कितना कामयाब होगा। यह आशंकाएं सिर्फ मेरी ही नहीं, आपकी और राज्य के आम आदमी की भी हो सकती हैं जो कांग्रेस को बदलते रूप में देख रहे हैं।कांग्रेस 27 साल से राज्य के परिदृश्य से गायब है। वर्ष 2014 के लोकसभा चुनाव में बुरी पराजय के बाद राज्यों में ढहता उसका जनाधार तमाम सवाल खड़ा कर रहा है। लेकिन, कांग्रेस और उसके रणनीतिकारों को उत्तर प्रदेश एक उर्वर जमीन के रूप में दिख रहा है।

राज्य में खुद को खड़ा करने के लिए 2017 का विधानसभा चुनाव उसके लिए बड़ा मौका है। कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी ने जिस तरह लखनऊ में रैली स्थल पर 'रैम्पवाक' करते हुए 50 कार्यकर्ताओं के सवालों और आशंकाओं का जवाब दिया, पार्टी में यह नई कार्य संस्कृति विकसित करने का साफ संकेत है।सवाल भले ही कांग्रेस कार्यकर्ताओं की तरफ से पूछे गए हों, लेकिन इसमें प्रदेश के आम लोगों की आशंका और उम्मीद झलकती दिखी।अब यह लगने लगा है कि पार्टी और संगठन में गणेश परिक्रमा कर अपनी कुर्सी बचाने वाले नेताओं के लिए बुरे दिन की शुरुआत होने वाली है। हालांकि, इससे कांग्रेस दो ध्रुवों में विभाजित होती दिखती है। एक राहुल गांधी की युवा बिग्रेड और दूसरी उनकी मां यानी स्वामी भक्तों की फौजवाली बूढ़ी कांग्रेस। दोनों के मध्य हितों के टकराव से इनकार नहीं किया जा सकता। लेकिन, मां और बेटा मिलकर इसमें कैसे सामंजस्य बनाते हैं, यह उनकी जिम्मेदारी है। राहुल गांधी की पहली पसंद युवा हैं और उन्होंने साफ संकेत भी दे दिया है कि संगठन में वातानुकूलित संस्कृति नहीं चलेगी। जिनके जूते गंदे होंगे और कुर्ते फटेंगे, उन्हीं को तरजीह दी जाएगी। 

कांग्रेस के लिए यह अच्छा मौका है। वह 27 साल के वनवास से एक मजबूत स्थिति में वापसी कर सकती है। राज्य की राजनीतिक स्थितियां भले ही बदल गई हों, लेकिन अगड़ों की राजनीतिक तासीर आज भी कांग्रेस है।नब्बे के दशक के बाद राज्य से कांग्रेस के गायब होने के बाद एक भी ब्राह्मण मुख्यमंत्री प्रदेश की सत्ता की कमान नहीं संभाल पाया है।पंडित नारायणदत्त तिवारी प्रदेश में कांग्रेस के अंतिम मुख्यमंत्री साबित हुए। इसके बाद कांग्रेस राज्य में उभर नहीं पाई। हालांकि, शीला फॉर्मूले से बहुत अधिक उम्मीद पालना बेमानी होगी, क्योंकि कांग्रेस का मूल वोटर रहा दलित, ब्राह्मण और मुस्लिम समुदाय उसकी झोली से निकल चुका है। इन समुदायों ने अब भाजपा, सपा और बसपा का दामन थाम लिया है। अगड़ी जातियां भाजपा के साथ लामबंद दिखती हैं, जबकि दलित बसपा और मुस्लिम व पिछड़ी जाति के वोटर सपा के साथ चले गए। 

कांग्रेस की शीला दीक्षित को उत्तर प्रदेश लाने की रणनीति से विरोधी दलों में सियासी हलचल जरूर शुरू हो गई है, क्योंकि राज्य में जय और पराजय के मतों का जो अंतर रहा है, वह बहुत अधिक नहीं रहा है। सिर्फ तीन से चार फीसदी वोटों के खिसकने से सत्ता फिसलती दिखती है।वर्ष 2002 से 2012 के आम चुनावों में यही स्थिति देखी गई। 2007 में बसपा को तकरीबन 29 फीसदी वोट मिले तो वहीं सपा को 26 फीसदी। जबकि 2012 में समाजवादी सरकार बसपा को पराजित कर दोबारा जब सत्ता में आई तो उसे लगभग 29 फीसदी वोट हासिल हुए, जबकि बसपा को 26 फीसदी और भाजपा को 15 फीसदी वोट मिले।इससे यह साबित होता है कि अगर अगड़ी जातियों से कांग्रेस सिर्फ पांच फीसदी वोट खींचने में कामयाब होती है तो वह सपा और बसपा जैसे दलों के लिए मुश्किल पैदा कर सकती है। भाजपा के अगड़े उम्मीदवारों का भाग्य भी खटाई में पड़ सकता है।

इस स्थिति में कांग्रेस सत्ता तो नहीं हासिल कर सकेगी, लेकिन राज्य में एक मजबूत स्थिति में उभर कर आम आदमी की नई उम्मीद बन सकती है। 18 फीसदी अगड़ी जातियों में ब्राह्मणों की संख्या 11 फीसदी है, जबकि राज्य में ठाकुर आठ फीसदी हैं। राज्य की 403 विधानसभा सीटों में तकरीबन 125 सीटें इस तरह की हैं, जहां अगड़ी जातियों का वोट नया गुल खिला सकता है। प्रदेश के 39 फीसदी ओबीसी को साधने के लिए राज बब्बर को प्रदेश अध्यक्ष बनाया गया है, क्योंकि बब्बर ओबीसी से आते हैं। इसके अलावा 18 फीसदी मुस्लिम मतदाताओं पर पकड़ बनाने के लिए गुलाम नबी आजाद को आगे लाया गया है, जबकि ठाकुरों को साधने के लिए अमेठी राजघराने के संजय सिंह को चुनाव प्रभारी बनाया गया है।इस रणनीति को देखकर कहीं से भी नहीं लगता कि कांग्रेस की चुनावी रणनीति कमजोर है। यह बात दीगर है कि राज्य में वह जनाधार खो चुकी है और उसी को हासिल करने के लिए वह प्रयत्नशील है। 

दिल्ली की पूर्व मुख्यमंत्री शीला दीक्षित को मुख्यमंत्री पद का चेहरा बनाकर पार्टी ने राज्य के 11 फीसदी ब्राह्मण मतदाताओं को साधने का काम किया है, क्योंकि भाजपा ब्राह्मणों के बजाय दलितों को अधिक तरजीह देती दिख रही है। उसे यह मालूम है कि अगड़ी जाति उसे छोड़कर कहीं नहीं जाने वाली है। लेकिन, दयाशंकर सिंह मामले के बाद भाजपा और बसपा की रणनीति बिगड़ गई है। यह दोनों के लिए अच्छी बात नहीं है। इससे सबसे अधिक बसपा की 'सोशल इंजीनियरिंग' को झटका माना जा रहा है। सन् 1990 में भाजपा ने अगड़ों के बल पर ही 221 सीटों पर विजय हासिल की थी। लेकिन, ब्राह्मणों से दूर होती भाजपा को 2007 और 2009 के विधानसभा चुनावों में राजनीतिक नुकसान उठाना पड़ा। इसका नतीजा रहा कि पार्टी उत्तर प्रदेश से लोकसभा में 10 और विधानसभा में 40 सीटों पर सिमट गई। 

लेकिन, 2014 के लोकसभा चुनाव के बाद वह नए अवतार में उभरी और लोकसभा चुनाव में 42 फीसदी से अधिक मत हासिल कर राज्य की 71 लोकसभा सीटों पर कब्जा जमाने में कामयाब रही। अब राहुल गांधी अपने एक नए अवतार में दिखे हैं। वेंटिलेटर पर पड़े पार्टी संगठन में नई ऊर्जा देखने को मिली है। राहुल ने महंगाई को लेकर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर सीधा हमला बोला। संसद में भी उन्होंने मोदी के सूटबूट पर एक बार फिर चुटकी ली और हर-हर मोदी की जगह 'अरहर मोदी' के जुमले से तीखा प्रहार किया।भूमि विधेयक और दाल की बढ़ती कीमतों पर अपनी बात रख महंगाई से परेशान किसान और आम आदमी की सहानुभूमि पाने की रणनीति कामयाब रही। 

आगामी विधानसभा चुनाव में उम्मीदवारी के लिए 9600 लोगों ने दावा ठोका है। उधर, पार्टी अध्यक्ष सोनिया गांधी 2 अगस्त को वाराणसी पहुंचकर रोड शो करेंगी। वह मोदी के गढ़ से भाजपा को चुनौती देंगी। कांग्रेस को लेकर राज्य की जनता में एक उम्मीद है। लोग सपा और बसपा की कार्यसंस्कृति से निकलना चाहते हैं, लेकिन उनके पास विकल्प नहीं हैं।इस बार राज्य के राजनीतिक हालत बदल रहे हैं। आगामी 2017 के महासमर में निश्चित तौर पर बदलाव देखने को मिलेगा। कांग्रेस उसमें कितनी कामयाब होगी, यह समय बताएगा। (आईएएनएस/आईपीएन)

(लेखक स्वतंत्र पत्रकार हैं)

 

Tags: Article

 

 

related news

 

 

 

Photo Gallery

 

 

Video Gallery

 

 

5 Dariya News RNI Code: PUNMUL/2011/49000
© 2011-2024 | 5 Dariya News | All Rights Reserved
Powered by: CDS PVT LTD