Thursday, 22 February 2024

 

 

खास खबरें पीईसी चंडीगढ़ के गणित विभाग ने हालिया प्रगति पर दो दिवसीय कार्यशाला आयोजित की गई ऑनलाइन जॉब फ्रॉड रैकेट: पंजाब पुलिस की साईबर क्राइम डिवीजऩ ने असम से चार साईबर धोखेबाज़ों को किया गिरफ़्तार एलपीयू, आईआईटी और अन्य विश्वविद्यालयों को पछाड़ते हुए भारत में अग्रणी पेटेंट फाइलर के रूप में उभरा मुख्यमंत्री सुखविंदर सिंह सुक्खू ने ‘अध्यापकों के अंतर्राष्ट्रीय भ्रमण’ कार्यक्रम का शुभारंभ किया शुभकरन के कातिलों को मिसाली सज़ा दिलाई जायेगी - मुख्यमंत्री का ऐलान पारदर्शिता ही ‘घर- घर मुफ़्त राशन’ योजना की मुख्य विशेषता: लाल चंद कटारूचक्क सनी लियोन की स्प्लिट्सविला फाइव के होस्ट के रूप में वापसी सालो बाद, एलिगेंट सिमी गरेवाल ज़ोया के लिए आयी एक खूबसूरत रील में नजर सफाई कर्मचारियों के हितों पर ध्यान देकर मनोहर सरकार ने दिखा दिया है कि भाजपा ही अनुसूचित जाति की सच्ची हितैषी है : सत्य प्रकाश जरवाता जिला में विभिन्न जगहों पर आईटीएमएस स्थापित करना जरूरी: डी सी हेमराज बैरवा स्ट्रोक भारत में नई महामारी के रूप में उभर रहा है: डॉ. यानिश भनोट 35 करोड़ रुपये की लागत से 66 केवी से 220 केवी बनेगा अजनाला बिजली घर : हरभजन सिंह ईटीओ पंजाब इंजीनियरिंग कॉलेज ने भारतीय विद्युत क्षेत्र पर तीन दिवसीय कार्यशाला का आयोजन किया अब बेरिएट्रिक सर्जरी के बिना स्वैलेबल पिल से घटेगा वजन संदेशखाली की घटना भाजपा की सोची समझी साजिश - आप प्रवक्ता नील गर्ग बंगाल में सरदार आईपीएस अधिकारी को खलिस्तानी बोले जाने की घटना की आम आदमी पार्टी ने की सख्त निंदा, कहा - भाजपा ने सिख धर्म का अपमान किया है बेला फार्मेसी कॉलेज में मां बोली दिवस मनाया गया कांगड़ा जिला में 03 मार्च को पिलाई जाएगी पोलियो की खुराक: डी सी डा हेमराज बैरवा राज्यपाल शिव प्रताप शुक्ल को विश्वभर में श्री राम पर जारी स्मारक डाक टिकट की पुस्तिका भेंट की प्रतिष्ठित पीईसी के पूर्व छात्र डॉ. रूप लाल महाजन ने पीईसी का दौरा किया विख्यात फिल्म निर्माता एवं निर्देशक विवेक अग्निहोत्री बने मानव मन्दिर के ब्रांड एम्बेसेडर

 

100 करोड़ की लागत से बनने वाले गीता ज्ञान संस्थानम् का निर्माण कार्य प्रारंभ

समारोह में गीता मनीषी स्वामी ज्ञानानंद जी महाराज के अलावा, राज्यमंत्री कर्णदेव का बोज, हरविन्द्र कल्याण, विधायक सुभाष सुधा, अंबाला विधायक असीम गोयल, जिप अध्यक्ष गुरदयाल सुनेहड़ी ने की शिरकत

Listen to this article

Web Admin

Web Admin

5 Dariya News (संजीव बंसल)

कुरुक्षेत्र , 29 May 2016

धर्मनगरी कुरुक्षेत्र में 100 करोड़ की लागत से बनने वाले गीता ज्ञान संस्थानम् का निर्माण कार्य गीतामनीषी स्वामी ज्ञानानंद जी महाराज के करकमलों से रविवार को प्रारंभ हो गया। इस अवसर पर जिओ गीता और श्रीकृष्ण कृपा सेवा समिति द्वारा अनाज मंडी के सामने स्थित रिजोर्ट में आयोजित कार्यक्रम में राज्यमंत्री कर्णदेव का बोज, हरविन्द्र कल्याण, विधायक सुभाष सुधा, अंबाला विधायक असीम गोयल, जिप अध्यक्ष गुरदयाल सुनेहड़ी, वित्तायोग सदस्य राजेन्द्र वालिया, विजय पाल, सुश्री सुमेधा कटारिया आदि ने विशेष रूप में शिरकत की।  कार्यक्रम में पिहोवा, कैथल, अ बाला, सहारनपुर, यमुनानगर, करनाल, सफीदो, रोहतक, बठिण्डा, गुडग़ांव, पंचकूला व अन्य शहरों से आए श्रद्धालुओं ने भाग लिया। राज्यमंत्री कर्णदेव का बोज, हरविन्द्र कल्याण, विधायक सुभाष सुधा आदि ने कुरुक्षेत्र में बनने वाले इस गीता ज्ञान संस्थानम् के लिए प्रदेश सरकार तथा अपनी ओर से तन-मन-धन से हर संभव सहयोग देने की घोषणा की। राज्यमंत्री कर्णदेव का बोज ने कहा कि भगवत् गीता नि:संदेह हमारी आस्था का गौरव ग्रन्थ है और जीवन जीने का सुन्दर सुव्यवस्थित ढंग है। साथ ही यह स पूर्ण जीवन विज्ञान है। ऐसे में कुरुक्षेत्र की धरा पर बनने वाले गीता ज्ञान संस्थानम् से पूरी दुनिया में बीता का प्रचार-प्रसार होगा और कुरुक्षेत्र की याति दुनियाभर में फैलेगी।

घरौंडा से विधायक एवं मंत्री हरविन्द्र कल्याण ने भी गीता की महिमा पर प्रकाश डालते हुए कहा कि यदि मनुष्य अपने जीवन में गीता को उतार ले तो वह तमाम चिंताओं, समस्याओं और तनाव से मुक्ति पा सकता है। अंबाला विधायक असीम गोयल ने भी कार्यक्रम में उपस्थित जनसूह को गौग्रास सेवा करने और गीता के उपदेशों को जीवन में उतारने का आह्वान किया। नगर विधायक सुभाष सुधा ने कहा कि हजारों वर्षों से अब तक कुरुक्षेत्र को महाभारत की भूमि के नाम से जाना जाता है। कुरुक्षेत्र में गीता ज्ञान संस्थानम् की स्थापना दुनियाभर में गीता का प्रचार-प्रसार करने में सहायक सिद्ध होगी। उन्होंने कहा कि गीतामनीषी स्वामी ज्ञानानंद जी के प्रयासों से अब कुरुक्षेत्र को केवल महाभारत की भूमि के नाम से नहीं बल्कि श्रीमद्भगवतगीता की जन्मस्थली के नाम से दुनियभर में जाना जाएगा।गीतामनीषी स्वामी ज्ञानानंद ने कार्यक्रम में मौजूद हजारों लोगों को संबोधित करते हुए कहा कि गीता ज्ञान संस्थानम् की स्थापना केवल कुरुक्षेत्र के लिए ही नहीं बल्कि समस्त हरियाणा के लिए एक गरिमामयी उपलब्धि होगी। स्वामी ज्ञानानंद जी महाराज ने कहा कि श्रीमद्भगवद् गीता भगवान श्रीकृष्ण द्वारा गाया गया आलौकिक गीत होने से हमारी आस्था है, हमारा गौरव है। ये केवल हिन्दुओं के लिए नहीं अपितु समूचे मानव जगत के लिए एक अनूठी पे्ररणा है। यही कारण है कि इसमें बार-बार सर्वभूतेषु, सर्वभूतानाम आदि शब्दों का प्रयोग हुआ है। 

उन्होंने कहा कि गीता जीवन का गीत है, यदि मनुष्य चाहता है कि उसके जीवन का गीत बेसुर ताल न चले, सुरीला-रसीला बने तो उसे गीता से अवश्य जुडऩा चाहिए। गीता के अध्ययन-मनन-चिन्तन से मनुष्य अपने जीवन को सही दिशा की ओर ले जा सकता है।  स्वामी जी ने कहा कि गीता सबका एवं सबके लिए ग्रंथ है, इसलिए सभी लोगों को गीता पाठ करना चाहिए। स्वयं को गीता की पे्ररणाओं से जोड़कर अपनी कुवृत्तियों, दुराचारों को त्यागकर एक सुखद एवं खुशहाल समाज के निर्माण में अपना योगदान देना होगा। इस मौके पर समिति से जुड़े मदन मोहन छाबड़ा, उपेन्द्र सिंघल, सुनील वत्स, विजय नरूला काका, महिन्द्र सिंगला, हंसराज सिंगला, खरैती लाल सिंगला, पवन शर्मा, फतेहचंद गांधी, मीडिया प्रवक्ता डा. राजेश वधवा भी मौजूद थे।गौरतलब है कि गत 4 मार्च 2016 को गीता ज्ञान संस्थानम्  का शिलान्यास कार्यक्रम आयोजित हुआ था जिसमें सरसंघसंचालक मोहन भागवत, प्रदेश के मु यमंत्री, राज्यपाल, हरियाणा के राज्यपाल, स्वामी रामदेव, स्वामी अवधेशानंद जी, ऋत बरा दीद, रमेश भाई ओझा, बाबा भूपेन्द्र सिंह, स्वामी परमान्मानंद, गुरुशरणानंद जी सहित संत समाज के अनेक महात्माओं के अलावा प्रदेश सरकार में शामिल लगभग सभी मंत्रियों और विधायकों ने भाग लिया था।

 

Tags: DHARMIK

 

 

related news

 

 

 

Photo Gallery

 

 

Video Gallery

 

 

5 Dariya News RNI Code: PUNMUL/2011/49000
© 2011-2024 | 5 Dariya News | All Rights Reserved
Powered by: CDS PVT LTD