Updated on Jan 20, 2017 10:56:37

 

 

जरूर पढ़ें-2 > स्पेशल डे

 

16-Jan-2017

रांगेय राघव यानी हिंदी के शेक्सपीयर

आलौकिक प्रतिभा के धनी तमिल भाषी, लेकिन हिंदी साहित्य के धरोहर रांगेय राघव के कविता संग्रह 'मेधावी' से जो परिचित नहीं हैं, उन्हें ये पंक्तियां जरूर यह बता देंगी कि रांगेय राघव किस मिजाज के कवि थे : "गहन कालिमा के पट ओढ़ेविकल विकल सी रात रो रहीदूर...

15-Jan-2017 नई दिल्ली

कबीर बेदी : रीयल और रील लाइफ में फर्क कहां!

फिल्म अभिनेता कबीर बेदी मनोरंजन-जगत का एक ऐसा नाम हैं, जिनका जिक्र किए बिना फिल्मी हस्तियों की गिनती अधूरी रह जाती है। उन्होंने जितना नाम फिल्मों से कमाया, उससे कहीं अधिक अपने व्यक्तिगत जीवन को लेकर सुर्खियों में रहे। वह 1970 के दशक का एक जगमगाता सितारा हैं।...

14-Jan-2017

नील नितिन मुकेश : संगीत शौक, अभिनय जुनून

संगीत घराने से ताल्लुक रखने वाले नील नितिन मुकेश को संगीत का शौक तो है, लेकिन जुनून है अभिनय का। दर्द भरे गीतों के लिए मशहूर पाश्र्व गायक मुकेश उनके दादा थे और पिता हैं गायक नितिन मुकेश। कहा जा सकता है कि नील के नाम में तीन पीढ़ियां समाहित हैं। नील ने अपने...

13-Jan-2017 नई दिल्ली

सीमा विस्वास : फूलन बन लूटा लाखों का दिल

'बैंडिट क्वीन', 'विवाह', 'खामोशी', 'वॉटर', 'एक हसीना थी', 'हजार चौरासी की मां' जैसी फिल्मों में उत्कृष्ट अभिनय से पहचान बनाने वाली अभिनेत्री सीमा विस्वास की गिनती देश की प्रतिभाशाली अभिनेत्रियों में की जाती है।दस्यु सुंदरी फूलन देवी के जीवन पर बनी शेखर कपूर...

12-Jan-2017 नई दिल्ली

अरुण गोविल : राम रूप बिसरे नहीं कोई

अभिनेता अरुण गोविल अपने असली नाम से अधिक रामानंद सागर के लोकप्रिय धारावाहिक 'रामायण' के राम के रूप में जाने जाते हैं। अरुण के नाम के साथ राम की छवि इस कदर एकरूप हो चुकी है कि उनका नाम आते ही जेहन में उनकी कोई और तस्वीर नहीं उभरती। राम के रूप में हर घर में पहचान...

09-Jan-2017 नई दिल्ली

येसुदास : सुरों के सरताज देखेंगे 77वां वसंत

'गोरी तेरा गांव बड़ा प्यारा', 'सुरमई अंखियों में', 'जब दीप जले आना', 'तुझे गीतों में ढालूंगा', 'चांद जैसे मुखड़े पे बिंदिया सितारा' जैसे कर्णप्रिय गीत हिंदी सिनेमा को देकर दक्षिण भारत में संगीत सरिता बहा रहे के.जे. येसुदास इस साल 77वां वसंत देखेंगे। फिल्म...

08-Jan-2017 नई दिल्ली

निखर रही फरहान अख्तर की बहुमुखी प्रतिभा

फरहान अख्तर बहुमुखी प्रतिभा के धनी हैं। वह भारतीय फिल्म निर्माता, पटकथा लेखक, अभिनेता, पाश्र्वगायक, गीतकार, फिल्म निर्माता और टीवी होस्ट भी हैं। उन्हें बचपन से ही इस क्षेत्र में दिलचस्पी थी, इसलिए कड़ी मेहनत की बदौलत अपना खास मुकाम बनाने में कामयाब रहे। फरहान...

06-Jan-2017 नई दिल्ली

इरफान खान हैं बचपन से शाकाहारी

बॉलीवुड से हॉलीवुड तक अपने अभिनय की छाप छोड़ने वाले अभिनेता इरफान खान का नाम आज पूरी दुनिया में मशहूर है। उन्होंने अपनी बहुमुखी प्रतिभा और अभिनय के दम पर हर वर्ग के दर्शकों को प्रभावित किया है।इरफान का अपना एक अलग ही अंदाज है। वह ऐसे कलाकार हैं, जो अपने जबरदस्त...

05-Jan-2017 नई दिल्ली

ए.आर. रहमान को विरासत में मिला संगीत

उनके संगीत में एक अजीब सी कशिश है जो श्रोताओं के दिलो-दिमाग को सुकून देती है। गोल्डन ग्लोब, ऑस्कर, ग्रैमी, फिल्मफेयर अवार्ड से नवाजे जा चुके रहमान की उपलब्धियों और उनके संगीत को शब्दों में बयां करना मुश्किल है।ए.आर. रहमान यानी अल्लाह रक्खा रहमान का जन्म छह...

01-Jan-2017 नई दिल्ली

जैनेंद्र कुमार : जिन्होंने 'मन' को दी महत्ता

हिंदी साहित्य में प्रेमचंद के साहित्य की सामाजिकता के बाद व्यक्ति के 'निजत्व' की कमी खलने लगी थी, जिसे जैनेंद्र ने पूरी की। इसलिए उन्हें मनोविश्लेषणात्मक परंपरा का प्रवर्तक माना जाता है। वह हिंदी गद्य में 'प्रयोगवाद' के जनक भी थे। जैनेंद्र का जन्म 2 जनवरी,...

01-Jan-2017 नई दिल्ली

छोटे से सफर में देश के क्रिकेट प्रेमियों के चहेते बन गए थे रमन लांबा

भारतीय क्रिकेट इतिहास में कई ऐसे खुशनुमा पल हैं जिन्हें खेल प्रेमी और खिलाड़ी कभी नहीं भूलना चाहेंगे, लेकिन कुछ ऐसी दर्दनाक घटानाएं भी हैं जिनका गवाह कोई नहीं बनना चाहेगा। दो जनवरी को भारत के पूर्व क्रिकेट खिलाड़ी रमन लांबा का जन्मदिन है। उनका जन्म उत्तर...

31-Dec-2016 नई दिल्ली

अंग्रेजों के जमाने के जेलर' को इंटरव्यू से परहेज

हास्य अभिनेता असरानी में अपने अभिनय से किरदारों को जीवंत कर देने की गजब क्षमता है। उन्होंने अपने लगभग पांच दशक लंबे करियर में हास्य को एक अलग आयाम दिया है। चाहे वह 'शोले' में अंग्रेजों के जमाने का जेलर हो या फिर 'चुपके-चुपके' का प्रशांत किशोर श्रीवास्तव, उन्होंने...

31-Dec-2016 नई दिल्ली

नाना पाटेकर : संजीदा अभिनय ही पहचान

नाना पाटेकर अपने संजीदा अभिनय के लिए जाने जाते हैं। उनके बोले संवाद बच्चे-बच्चे की जुबान पर चढ़ जाते हैं। उन्हें सर्वश्रेष्ठ अभिनेता कह लीजिए, सर्वश्रेष्ठ विलेन या सर्वश्रेष्ठ सहायक अभिनेता, उन पर कोई फर्क नहीं पड़ता, क्योंकि वह अक्खड़ मिजाज के इंसान हैं।...

30-Dec-2016 नई दिल्ली

विद्या बालन को पसंद हैं रहस्यमयी चीजें

'परिणीता', 'कहानी', 'डर्टी पिक्चर', 'कहानी-2' जैसी फिल्मों से बॉलीवुड में धाक जमाने वाली अभिनेत्री विद्या बालन अपनी फिल्म की सफलता के लिए किसी लोकप्रिय पुरुष कलाकार की मोहताज नहीं हैं। उन्होंने इस बात को साबित किया है कि अगर काम का जुनून और कड़ी मेहनत करने की प्रतिभा...

28-Dec-2016 नई दिल्ली

बेहतरीन लेखिका भी हैं ट्विंकल खन्ना

अभिनेत्री ट्विंकल खन्ना अपनी शोख, चुलबुली अदाओं, बड़बोलेपन और खूबसूरती के लिए जानी जाती हैं। सुपरस्टार राजेश खन्ना और अभिनेत्री डिंपल कपाड़िया की बेटी का जन्म 29 दिसंबर 1973 को मुंबई में हुआ था। ट्विंकल ने अभिनेता बॉबी देओल के साथ फिल्म 'बरसात' (1995) से फिल्मी...

26-Dec-2016 नई दिल्ली

सलमान खान की खूब चल रही दबंगई

'मैं हूं हीरो तेरा', 'जग घूमेया', 'तेरे मस्त मस्त दो नैन', 'बेबी को बेस पसंद है' जैसे रोमांच पैदा करने वाले गीतों से सजी कई धमाकेदार फिल्मों से धमाल मचा चुके सुपरस्टार सलमान खान बॉलीवुड का जगमगाता सितारा हैं। सलमान खान का जन्म मध्यप्रदेश के इंदौर में 27 दिसंबर,1965...

24-Dec-2016 नई दिल्ली

पैसों से ज्यादा कला को महत्व देते थे नौशाद

नौशाद के संगीत से सजे गीतों को सुनते ही एक ऐसे संगीतकार का अक्स जेहन में उभरता है, जिनकी संगीत रचनाएं कालजयी हैं। उन्होंने संगीत की गुणवत्ता पर ज्यादा ध्यान दिया, तभी तो लगातार 64 सालों तक काम करने के बावजूद उन्होंने सिर्फ 67 फिल्मों को ही संगीत दिया। मगर...

24-Dec-2016 नई दिल्ली

नंदिता से बन गईं नगमा

अपने जमाने की मशहूर अभिनेत्री नगमा हिंदी समेत कई भाषाओं की फिल्मों में काम कर चुकी हैं। वह भोजपुरी फिल्मों की भी जानी-मानी अभिनेत्री हैं। इन दिनों वह राजनीति में सक्रिय हैं।नगमा का जन्म एक मुसलमान मां और हिंदू पिता के घर क्रिसमस के दिन 25 दिसंबर, 1974 को...

23-Dec-2016 नई दिल्ली

मोहम्मद रफी ने 13 साल की उम्र में गाया था पहला गाना

मोहम्मद रफी के गाए गीत 'तुम मुझे यूं भुला ना पाओगे' को सच में कोई नहीं भूल पाया है और ना ही गायक को कोई भुला पाया है। वह भारतीय सिनेमा के ऐसे दिग्गज गायक हैं, जिन्होंने अपनी सुरीली गीतों से सबका मन मोह लिया। उनके गाए गीत आज भी बड़े चाव से सुने जाते हैं। रफी...

23-Dec-2016 नई दिल्ली

उम्र को पीछे छोड़ रहे अनिल कपूर

फिल्म निर्माता-निर्देशक उमेश मेहरा की फिल्म 'हमारे तुम्हारे' से 1979 में एक सहायक अभिनेता के किरदार से अपने फिल्मी करियर की शुरुआत करने वाले बॉलीवुड के अभिनेता अनिल कपूर पिछले चार दशकों से फिल्मी पर्दे पर अपने अभिनय का डंका बजा रहे हैं। सोनम, हर्षवर्धन और...

21-Dec-2016 नई दिल्ली

गोविंदा को विरासत में मिला अभिनय

अपने अनूठे डांस और डॉयलाग बोलने के अलग अंदाज के लिए प्रशंसकों के बीच अलग छवि बनाने वाले अभिनेता गोविंदा का बुधवार को जन्मदिन है, और वह 53 साल के हो जाएंगे। हाल ही में गोविंदा ने पश्चिमी दिल्ली के रजौरी गार्डन इलाके में पिछले सप्ताह 'हीरो नंबर-1' नाम के एक...

18-Dec-2016 नई दिल्ली

गोविंद निहलानी : छायांकन से निर्देशन तक कीर्तिमान

गोविंद निहलानी भारतीय फिल्म जगत में एक जानामाना नाम हैं। अपनी उम्र के 74वें पड़ाव पर पहुंचे गोविंद को समानांतर फिल्मों को मुख्यधारा की फिल्मों के बराबर ला खड़ा करने और सामाजिक और राजनीतिक मुद्दों को बेहद कुशलता से पर्दे पर उतारती उत्कृष्ट फिल्मों के निर्माण...

17-Dec-2016 नई दिल्ली

जॉन अब्राहम का पारसी नाम फरहान

बॉलीवुड में अपनी लंबी कदकाठी और डोले-शोले के लिए मशहूर जॉन अब्राहम शानदार अभिनेताओं में से हैं। उन्होंने 31 की उम्र में बॉलीवुड फिल्म 'जिस्म' के साथ अपने करियर की शुरुआत की थी। इसके लिए उन्हें फिल्मफेयर में बेस्ट डेब्यू के लिए नामांकित भी किया गया। इसके बाद...

16-Dec-2016 नई दिल्ली

रितेश देशमुख : आर्किटेक्ट से बन गए अभिनेता

महाराष्ट्र के एक राजनीतिक परिवार में जन्मे रितेश देशमुख ने अभिनय को अपना लक्ष्य बनाते हुए हिंदी व मराठी सिनेमा में बखूबी अपनी अदाकारी का जादू चलाया है। उन्होंने अपने लंबे करियर में 'क्या कूल है हम', 'हे बेबी', 'धमाल', 'हाउसलफुल', 'तेरे नाल लव हो गया' और 'मस्ती'...

11-Dec-2016 मुंबई

रजनीकांत : कुली से बन गए सुपरस्टार

अपने अनोखे अंदाज और बेहतरीन अभिनय से फिल्म जगत में अलग मुकाम हासिल कर चुके सुपरस्टार रजनीकांत एक ऐसा नाम है, जो सभी की जुबां पर चढ़कर बोलता है। उन्होंने यहां तक पहुंचने के लिए काफी संघर्ष किया है। रजनीकांत आज इतने बड़े सुपरस्टार होने के बावजूद जमीन से जुड़े...

10-Dec-2016 नई दिल्ली

आर्मी क्लब में सैंडविच बेचते थे दिलीप कुमार

बॉलीवुड में 'ट्रेजिडी किंग' के नाम से मशहूर दिलीप कुमार बेहतरीन अभिनेताओं में शुमार हैं। वह राज्यसभा के सदस्य भी रह चुके हैं। हिंदी सिनेमा में उन्होंने पांच दशकों तक अपने शानदार अभिनय से दर्शकों के दिल पर राज किया। उन पर फिल्माया गया 'गंगा जमुना' का गाना 'नैना...

07-Dec-2016 नई दिल्ली

राजनीति के वीरू नहीं बन पाए धर्मेद्र

धर्मेंद्र का नाम लेते ही बॉलीवुड पर राज करने वाले एक खूबसूरत, रोमांटिक नायक की तस्वीर जेहन में उभर आती है। टाइम्स पत्रिका ने उन्हें दुनिया के 10 सबसे खूबसूरत अभिनेताओं में शुमार किया। मशहूर अभिनेत्री जया बच्चन उनकी खूबसूरती से प्रभावित होकर उन्हें ग्रीक देवता...

07-Dec-2016 नई दिल्ली

शर्मिला टैगोर को देखते ही दिल दे बैठे थे पटौदी

गुजरे जमाने की अदाकारा शर्मिला टैगोर ने हिंदी फिल्मों में जो मुकाम हासिल किया है, वह कम लोगों को नसीब हुआ है। वर्ष 1959 से 1984 तक रूपहले पर्दे पर शर्मिला के रूप और अदाओं का राज रहा है। वह 1991 से 2010 तक अलग अंदाज में पर्दे पर सक्रिय रहीं। उन्हें बेहतरीन...

05-Dec-2016 नई दिल्ली

चार्टर्ड अकाउंटेंट भी रहे हैं शेखर कपूर

फिल्मकार शेखर कपूर को यथार्थपरक फिल्में बनाने के लिए जाना जाता है। वह ऐसे निर्देशकों में शुमार हैं, जिन्होंने न सिर्फ बॉलीवुड में, बल्कि अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर भी अपनी खास पहचान बनाई है। शेखर कपूर को 'एलिजाबेथ : द गोल्डन ऐज', 'बैंडिट क्वीन', 'मिस्टर इंडिया',...

02-Dec-2016 भोपाल

भोपाल हादसे की रात की यादें आज भी डरावनी!

मध्य प्रदेश की राजधानी भोपाल में घटित यूनियन कार्बाइड गैस त्रासदी को भले ही 32 वर्ष बीत गए हैं, लेकिन उस हादसे की रात यहां के लोगों के लिए अभी भी डरावनी बनी हुई है। उनकी आंखों के सामने सड़कों पर बिखरी लाशें और बदहवास भागती भीड़ की तस्वीर ताजा हो जाती है।...

26-Nov-2016 भोपाल

भोपाल गैस हादसा : हर शनिवार को करते हैं हक का नारा बुलंद

मध्य प्रदेश की राजधानी भोपाल के यादगार-ए- शाहजहांनी पार्क का हर शनिवार को नजारा ही निराला होता है, यहां सैकड़ों की संख्या में बुजुर्ग से लेकर नौजवान तक जमा होते हैं और अपने हक का नारा बुलंद करते हैं। बीते 29 वर्षो से यह सिलसिला अनवरत चल रहा है और यह तब तक...

20-Nov-2016 नई दिल्ली

बच्चे कब बनेंगे राजनीतिक प्राथमिकता : कैलाश सत्यार्थी

बाल श्रम के खिलाफ मुहिम चलाने वाले नोबेल पुरस्कार विजेता कैलाश सत्यार्थी ने नोटबंदी का समर्थन किया है क्योंकि उनका मानना है कि इससे मानव तस्करी रुकेगी। बच्चों के अधिकारों के लिए अपना जीवन समर्पित कर देने वाले सत्यार्थी ने जोर देकर कहा कि जब तक बच्चे राजनीतिक...

18-Nov-2016 नई दिल्ली

पत्रकार भी रही हैं जीनत अमान

अपने जमाने में हुस्न के जलवे बिखेरकर लाखों दिलों पर राज करने वाली अभिनेत्री जीनत अमान अभी बड़े पर्दे से भले ही दूर हैं, लेकिन आज भी उनके चाहने वालों की कमी नहीं है। वह 70 के दशक की सबसे लोकप्रिय अभिनेत्रियों में से एक रही हैं। वह मनोरंजन-जगत में पश्चिमी सभ्यता...

10-Nov-2016 नई दिल्ली

रेडियो पर गाया करती थीं माला सिन्हा

खूबसूरत और बड़े-बड़े कजरारे नैनों वाली बॉलीवुड अभिनेत्री माला सिन्हा की अभिनय प्रतिभा ने हर किसी को अपना दीवाना बना लिया। 78 वर्ष की होने के बावजूद उनके चेहरे पर आज भी वही चमक बरकरार है। माला सिन्हा ऑल इंडिया रेडियो यानी आकाशवाणी की अनुमोदित गायिका रह चुकी हैं।...

01-Nov-2016 लखनऊ/हरदोई

भैया दूज : बहनों ने भाइयों को टीका लगा मांगी दुआ

उत्तर प्रदेश की राजधानी सहित समूचे प्रदेश में मंगलवार को भैया दूज पर्व उत्साह से मनाया गया। इस दौरान भाइयों के माथे टीकों से सजे दिखाई दिए। टीका लगाते हुए बहनों ने अपने भाइयों की सलामती की दुआ मांगी। दिनभर बहनों का अपने भाइयों के यहां टीका लगाने और बजरी खिलाने...

23-Oct-2016 नई दिल्ली

कुश्ती भी लड़ा करते थे मन्ना डे

मन्ना डे के गाए गीतों के दीवाने कई दिग्गज गायक भी थे और हैं। उन्होंने गाया 'सुर ना सजे क्या गाऊं मैं..' लेकिन गाते रहे, सबको लुभाते रहे। फिर गाया 'जीना यहां मरना यहां' पर इस जहां में ठहरे कहां! मन्ना अब इस जहां में नहीं हैं, मगर करोड़ों दिलों में बसे हैं अपनी...

20-Oct-2016 नई दिल्ली

कुलभूषण खरबंदा के लिए भूमिका छोटी-बड़ी क्या!

देश बंटने के बाद पाकिस्तान से आया एक बंदा बॉलीवुड में कुटिल मुस्कान वाले खलनायक शाकाल के रूप में जाना जाने लगा, नाम कुलभूषण खरबंदा और वह फिल्म थी वर्ष 1980 के दशक की 'शान' जिसने इस बंदे को खलनायकी के बावजूद लोकप्रिय बना दिया। कुलभूषण ने बॉलीवुड में अपने...

19-Oct-2016 नई दिल्ली

ऑस्टियोपोरोसिस की पहचान नहीं हो पाती, जागरूकता जरूरी

ओस्टियोपोरोसिस से होने वाले फ्रैक्च र और इसके कारण होने वाली विकलांगता की बढ़ती घटनाओं के मद्देनजर विश्व ऑस्टियोपोरोसिस दिवस की पूर्व संध्या पर, चिकित्सा विशेषज्ञों ने भारत में तेजी से बढ़ रहे ऑस्टियोपोरोसिस के बारे में राष्ट्रीय स्तर पर जागरूकता अभियान शुरू करने का...

16-Oct-2016 नई दिल्ली

मुस्कान देख नाम पड़ गया स्मिता

अपनी बड़ी-बड़ी खूबसूरत आंखों और सांवली-सलोनी सूरत से सभी को आकर्षित करने वाली अभिनेत्री स्मिता पाटिल ने महज 10 साल के करियर में दर्शकों के बीच खास पहचान बना ली। उनका नाम हिंदी सिनेमा की बेहतरीन अदाकाराओं में शुमार है। स्मिता को आज भी कोई कहां भूल पाया है!...

15-Oct-2016 नई दिल्ली

शासन प्रणाली में सुधार के लिए हस्तियां कलाम अवार्ड से सम्मानित

पूर्व राष्ट्रपति एवं 'मिसाइल मैन' डॉ. ए. पी. जे अब्दुल कलाम की 85वीं जयंती पर एयर इंडिया के सीएमडी अश्वनी लोहानी, आईपीएस नवनीत सिकेरा, उत्तर प्रदेश के प्रमुख सचिव डॉ. नवनीत सहगल, लखनऊ मेट्रो के प्रबंध निदेशक कुमार केशव एवं केपीएमजी इंडिया के डॉ. जयजीत भट्टाचार्य...

15-Oct-2016 नई दिल्ली

जन्म से पहले ही नाम पड़ गया हेमा मालिनी

दर्शकों के दिलों पर दशकों से राज कर रहीं 'ड्रीम गर्ल' हेमा मालिनी आज भी राजनीति के साथ-साथ अभिनय में सक्रिय हैं। उन्होंने अपनी खूबसूरती, अभिनय, रोमांस और चुलबुले मिजाज से हिंदी सिनेमा पर अपनी अमिट छाप छोड़ी है। 'हां जब तक है जान', 'धीरे-धीरे बोल कोई सुन न ले',...

14-Oct-2016

डॉ. ए.पी.जे. अब्दुल कलाम : शिक्षा को समर्पित रही पूरी जिंदगी

भारत के लोकप्रिय ग्यारहवें राष्ट्रपति डॉ. ए.पी.जे. अब्दुल कलाम को शिक्षक की भूमिका बेहद पसंद थी। उनकी पूरी जिंदगी शिक्षा को समर्पित रही। वैज्ञानिक कलाम साहित्य में रुचि रखते थे, कविताएं लिखते थे, वीणा बजाते थे और अध्यात्म से भी गहराई से जुड़े थे। कलाम का...

14-Oct-2016 नई दिल्ली

देश को तिगुना अंडे की जरूरत : राधा मोहन सिंह

केंद्रीय कृषिमंत्री राधा मोहन सिंह ने शुक्रवार को पोषण पर चर्चा करते हुए कहा कि मौजूदा समय में देश में प्रतिवर्ष प्रतिव्यक्ति के लिए 63 अंडे उपलब्ध हैं, लेकिन प्रतिवर्ष प्रतिव्यक्ति मानक जरूरत पूरी करने के लिए 180 अंडे चाहिए। मंत्री ने यह बात नेशनल न्यूट्रीशन...

14-Oct-2016 नई दिल्ली

देश में प्रति व्यक्ति, प्रति वर्ष 63 अंडे उपलब्ध : राधा मोहन

केंद्रीय कृषि एवं किसान कल्याण मंत्री राधा मोहन सिंह ने शुक्रवार को कहा कि भारत में प्रति व्यक्ति, प्रति वर्ष 63 अंडे उपलब्ध हैं, जबकि राष्ट्रीय पोषण संस्थान के अनुसार प्रति व्यक्ति करीब 180 अंडे उपलब्ध होने चाहिए। कृषि मंत्री शुक्रवार को पूसा में विश्व अंडा...

12-Oct-2016 नई दिल्ली

'नजर से ज्यादा जरूरी, नजरिया'

दस महीने की उम्र में दिमागी बुखार मेनेन्जाइटिस से पीड़ित होने के कारण जॉर्ज अब्राहम की ऑप्टिक नर्व और रेटिना खराब हो गया और वह दृष्टिबाधित हो गए। लेकिन आज उनकी जिंदगी अन्य ज्यादातर दृष्टिबाधितों से बेहद अलग है, क्योंकि उनके माता-पिता ने उनकी दृष्टिबाधिता...

11-Oct-2016 नई दिल्ली

कभी इन्कलाब थे अमिताभ

सदी के महानायक, बॉलीवुड के शहंशाह, एंग्री यंगमैन, बिग बी जैसे नामों से प्रसिद्ध अमिताभ बच्चन की अमिट आभा के आगे सारी उपाधियां और नाम फीके पड़ जाते हैं। 11 अक्टूबर 1942 को इलाहाबाद में विजयादशमी के दिन जन्मे अमिताभ के पिता हरिवंश राय बच्चन हिंदी के प्रसिद्ध...

01-Oct-2016

..इस तरह रूपहले पर्दे की रानी बनीं आशा पारेख

गुजरे जमाने की मशहूर अभिनेत्री आशा पारेख ने अपनी प्रतिभा के बलबूते अपना अलग मुकाम बनाया। विजय भट्ट ने उन्हें अपनी फिल्म से यह कह कर निकाल दिया था कि उनमें अभिनेत्री बनने के गुण नहीं है, लेकिन आशा ने उन्हें गलत साबित कर दिखाया। आशा का जन्म दो अक्टूबर, 1942...

01-Oct-2016 नई दिल्ली

विश्व वृद्धावस्था दिवस पर अच्छी सेहत का सूत्र

इंडियन मेडिकल एसोसिएशन के नवनिर्वाचित अध्यक्ष एवं एचसीएफआई अध्यक्ष डॉ. के.के. अग्रवाल ने बताया कि भारत में 60 साल से ज्यादा आयु के 11 करोड़ लोग हैं यानि कुल आबादी का 10 प्रतिशत। विश्व वृद्धावस्था दिवस (1 अक्टूबर) पर उन्होंने कहा कि हमारा ध्यान इन लोगों की अच्छे...

28-Sep-2016 नई दिल्ली

भारत को हृदय रोग की ओर धकेल रही अस्वस्थ जीवनशैली

हृदय रोग पूरे विश्व में आज एक गंभीर समस्या के तौर पर उभरा है। भारत में 2016 के दौरान हृदय रोगियों की संख्या 2000 की तुलना में तीन गुना अधिक होने की संभावना है। हर साल विश्व 29 सितंबर को हृदय दिवस के बहाने समूची दुनिया के लोगों के बीच इसे लेकर जागरुकता फैलाई...

28-Sep-2016 नई दिल्ली

महमूद को काम देने से कतरा गए थे किशोर कुमार

महमूद को मनोरंजन-जगत में 'किंग ऑफ कॉमेडी' के नाम से जाना जाता है। लेकिन उन्हें इस मुकाम तक पहुंचने में काफी संघर्ष करना पड़ा। जिस किशोर कुमार को उन्होंने बाद में अपने होम प्रोडक्शन की फिल्म पड़ोसन में काम दिया, उन्हीं किशोर कुमार ने महमूद को काम देने से इंकार...

26-Sep-2016 नई दिल्ली

लता मंगेशकर : बेटी को पार्श्वगायिका नहीं बनाना चाहते थे दीनानाथ

भारतरत्न स्वर-कोकिला लता मंगेशकर की गिनती अनमोल गायिकाओं में है। उनके मधुर स्वर का दीवाना भारत ही नहीं, बल्कि पूरी दुनिया है। संगीत की मलिका लता मंगेशकर को कई उपाधियों से नवाजा जा चुका है। 28 सितंबर को उनका 87वां जन्मदिन है। भारत रत्न लता मंगेशकर का छह दशकों...

25-Sep-2016 लखनऊ

स्वर्ण जयंती पर याद किए गए पंडित दीनदयाल

एकात्म मानववाद के प्रणेता उपासक पंडित दीनदयाल उपाध्याय की स्वर्ण जयंती के अवसर पर चारबाग के पास के.के.सी. स्थित पं. दीनदयाल स्मृतिका पर राज्यपाल राम नाईक ने उनकी प्रतिमा पर माल्र्यापण किया। इस मौके पर नाईक ने कहा कि महामनीषी विचारक पं. दीनदयाल उपाध्याय की आज...

25-Sep-2016 नई दिल्ली

देव आनंद : अंदाज ही उनकी पहचान थी

हिंद फिल्मों के सदाबहार अभिनेता देव आनंद को उनके खास अंदाज के लिए जाना जाता है, या कहें कि यही अंदाज उन्हें देव आनंद बनाता है। उन्होंने हमेशा जिंदगी को आनंद के रूप में लिया। उनके भीतर की जिंदादिली ने उन्हें कभी बूढ़ा नहीं होने दिया। उनका अंदाज उनके हजारों-लाखों...

25-Sep-2016

किसानों, मजदूरों व गरीबों के मसीहा थे चौधरी देवीलाल

हरियाणा के निर्माता रहे स्वर्गीय चौधरी देवीलाल सिर्फ  स्वतंत्रता सेनानी, किसानों, गरीबों, मजदूरों और कमेरे वर्ग के मसीहा ही नहीं थे बल्कि एक युगपुरुष थे। उनकी करनी और कथनी में कोई फर्क नहंीं था और वे बेहद संघर्षशील, जुझारू व निर्भीक राजनेता थे जिनकी जड़ें...

14-Sep-2016 नई दिल्ली

हिंदी भाषा को लेकर लापरवाही फैल रही : अशोक वाजपेयी

हिंदी के प्रख्यात कवि एवं आलोचक डॉ. अशोक वाजपेयी ने बुधवार को कहा कि हमारे देश में हिंदी भाषा को लेकर लापरवाही फैल रही है, जिसे दूर करने में शिक्षकों के बहुत बड़े योगदान की जरूरत है। हिंदी दिवस के अवसर पर मधुबन एजुकेशनल बुक्स द्वारा हिंदी दिवस समारोह का आयोजन...

09-Sep-2016

आत्महत्या वैयक्तिक विघटन की चरम अभिव्यक्ति

आत्महत्या की समस्या दिन पर दिन बढ़ती जा रही है। इधर तीन दशकों में विज्ञान की प्रगति के साथ जहां बीमारियों से होने वाली मृत्यु संख्या में कमी हुई है, वहीं इस वैज्ञानिक प्रगति के बीच आत्महत्याओं की संख्या पहले से अधिक हो गई है। यह समाज के हर एक व्यक्ति के लिए चिंता...

04-Sep-2016 लखनऊ

करुणा, त्याग व सेवा की मूर्ति थीं मदर टेरेसा : मुलायम सिंह यादव

समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष मुलायम सिंह यादव ने मदर टेरेसा को संत घोषित किए जाने का स्वागत करते हुए कहा है कि मदर करुणा, त्याग एवं सेवा की मूर्ति थीं, गरीबों और बेसहारा लोगों के लिए तो वे पहले ही संत बन गई थीं। उन्होंने कहा कि मदर टेरेसा ने मानवता की...

04-Sep-2016 वेटिकन सिटी

संत टेरेसा बनीं मदर टेरेसा, प्रधानमंत्री ने कहा गर्व की बात

पोप फ्रांसिस ने रविवार को भारत में गरीबों की आजन्म सेवा करने वाली नोबेल शांति पुरस्कार प्राप्त नन मदर टेरेसा को संत घोषित कर दिया। इस मौके पर हजारों की तादाद में लोग मौजूद थे। कैथोलिक न्यूज एजेंसी ने पोप के हवाले से कहा, "हम कोलकाता की धन्य टेरेसा को संत...

04-Sep-2016 नई दिल्ली

गुरु समान दाता नहीं..

'गुरु गोबिंद दोऊ खड़े, का के लागूं पाय। बलिहारी गुरु आपणे, गोबिंद दियो मिलाय..' विश्व प्रसिद्ध इस दोहे में महान कवि कबीर दास ने गुरु को ईश्वर से बड़ा स्थान दिया है। हमारे देश और समाज में गुरु को व्यक्ति के जीवन का 'पथ प्रदर्शक' कहा जाता है। गुरुओं को समर्पित...

04-Sep-2016 भुवनेश्वर

ओडिशा में संत टेरेसा के नाम पर सड़क

ओडिशा के मुख्यमंत्री नवीन पटनायक ने रविवार को यहां एक सड़क का नाम मदर टेरेसा के नाम पर रखा। मुख्यमंत्री ने कहा, "मुझे यहां आज सत्य नगर फ्लाईओवर रोड का नाम मदर टेरेसा के नाम पर रखते हुए बेहद खुशी हो रही है। आज से इसे 'संत मदर टेरेसा रोड' के नाम से जाना जाएगा।"उन्होंने...

view more >>