Updated on Mar 22, 2017 15:54:18

 

 

मुख्य समाचार > लेख

 

15-Mar-2017

मध्यम-वर्ग: नई भोर की आहट

पांच राज्यों के विधानसभा चुनावों के परिणामों ने देश को एक उजाला दिया है, एक संभावनाओं भरी उजली सुबह दी है। यही कारण है कि पहली बार मध्यम वर्ग की चिन्ता किसी राष्ट्रनायक ने की है। गरीबी को खत्म करके मध्यम वर्ग पर लगातार लादे...

05-Mar-2017

डिजिटल भुगतान की अनिवार्यता के सबब

विमुद्रीकरण के बाद डिजिटल भुगतान प्रणाली और कैशलेस अर्थव्यवस्था को प्रोत्साहन देने के लिए सरकार द्वारा किए जा रहे प्रयासों का लोगों ने स्वागत किया है। लेकिन डिजिटल लेनदेन को बढ़ावा देने के लिए महीने में चार बार से अधिक नकदी लेन-देन पर शुल्क की व्यवस्था जनता की परेशानियां...

18-Oct-2016

उत्तर प्रदेश में भाजपा के कितने काम आएगा 'जय श्रीराम' का उद्घोष?

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने दशहरे के मौके पर लखनऊ के ऐशबाग रामलीला कमेटी मंच से 'जय श्रीराम, जय-जय श्रीराम' का उद्घोष क्या किया, समाजवादी पार्टी में चल रहा 'असमाजवाद' बजाय थमने के उफान लेने लगा। यह कयास भी लगाए जाने लगे कि कहीं भाजपा ने चुनावी एजेंडा तो नहीं तय...

25-Sep-2016

किसानों, मजदूरों व गरीबों के मसीहा थे चौधरी देवीलाल

हरियाणा के निर्माता रहे स्वर्गीय चौधरी देवीलाल सिर्फ  स्वतंत्रता सेनानी, किसानों, गरीबों, मजदूरों और कमेरे वर्ग के मसीहा ही नहीं थे बल्कि एक युगपुरुष थे। उनकी करनी और कथनी में कोई फर्क नहंीं था और वे बेहद संघर्षशील, जुझारू व निर्भीक राजनेता थे जिनकी जड़ें...

02-Sep-2016

ये आकाशवाणी 'बलूचिस्तान' है

बलूचिस्तान पर, लालकिले की प्राचीर से प्रधानमंत्री ने जो बोला, पाकिस्तान को जैसे सांप सूंघ गया और पल भर को लगा कि उसे लकवा मार गया। दुखती रग पर चोट कितनी गहरी होती है, सबको पता है। इधर गृहमंत्री राजनाथ सिंह ने जम्मू-कश्मीर में वहां की मुख्यंत्री से गुफ्तगू की और...

26-Aug-2016

पहले पर्दे के पीछे के 'खेल' तो खत्म हों

भारत को लेकर चीन जब-तब चिंतित रहता है। कभी अर्थव्यवस्था, कभी प्रतिभाएं, तो कभी भारतीय भू-भाग से परेशान दिखता है। अब चीन का पेट दुख रहा है कि भारत ने रियो ओलंपिक में केवल दो मेडल ही क्यों जीते? वह यहां तक कह गया, भारत में 'खेल संस्कृति' ही नहीं है (घूंट कड़वा,...

24-Aug-2016

'विधायिका' खुद को बदले!

देश की व्यवस्था में सुधार को लेकर वैसे तो हमारे नेता ही चिंतित होने का पाखंड करते हैं, लेकिन जब न्यायाधीश चिंतित हों, उनकी आवाज आवाम तक पहुंचे, तो मतलब सिर्फ और सिर्फ यही कि हमारे लोकतंत्र में सब कुछ ठीक-ठाक नहीं है। गौरतलब है कि पटना हाईकोर्ट के मुख्य न्यायाधीश...

21-Aug-2016

सिंधु तुझे सलाम, रियो मांगे बेटी मोर

भारत की बेटियों पर पूरा हिंदुस्तान गर्व कर रहा है। हमारे लिए यह उत्सव का क्षण है। पीवी सिंधु, साक्षी मलिक ने जहां पदकों का सूखा खत्म किया वहीं दीपा कर्माकर ने अच्छा प्रदर्शन किया। मलिक ने फ्रीस्टाइल कुश्ती में कजाकिस्तान की खिलाड़ी को पराजित कर कांस्य पदक...

18-Aug-2016

आजादी का 70वां जश्न : 3 यक्ष प्रश्न

उत्तरी गोलार्ध स्थित भौगोलिक दृष्टि से दुनिया में सातवें सबसे बड़े और जनसंख्या के लिहाज से दूसरे बड़े देश भारत के 70वें स्वाधीनता दिवस पर अभिव्यक्ति की असल स्वतंत्रता पहली बार तीन रंग-रूपों में दिखी। पहला, किसी प्रधानमंत्री ने पाकिस्तान को खुलकर मुंहतोड़ जवाब...

13-Aug-2016

बिलखती आजादी का स्वच्छंद परिंदा

अगस्त, 2016 को हम आजादी की 70वीं सालगिरह मानाने जा रहे हैं, लेकिन हमें एक बात बार-बार कचोटती है कि हमने अपनी आजादी के साथ न्याय नहीं किया। हम उसे सहेज नहीं पाए, जिसका नतीजा है कि हम आज अशांति, हिंसा, उग्रवाद, अतिवाद और नक्सली हिंसा का सामना कर रहे हैं। हमने...

10-Aug-2016

गोचर बृहस्पति का कन्या राशि में प्रवेश

वैदिक ज्योतिष में बृहस्पति सबसे शुभ ग्रह माना जाता है और अच्छे परिणाम देता है। भले ही वह कुंडली में अशुभ हो सकता है। बृहस्पति धर्म-अध्यात्म, सुख-समृद्धि, धन- सम्पति, संतान, सफलता, बुद्धि और ज्ञान का प्रतिनिधित्व करता है। गोचर बृहस्पति सिंह राशि से कन्या राशि...

01-Aug-2016

उप्र में कांग्रेस को जीत दिलाएगा ब्राह्मण समाज !

राजनीतिक लिहाज से अहम राज्य उत्तर प्रदेश में कांग्रेस नए अवतार में दिखी है। 29 जुलाई को लखनऊ के रमाबाई पार्क में बूथ स्तरीय कार्यकर्ता सम्मेलन में राहुल गांधी जिस भूमिका में दिखे, वह कांग्रेस के लिए शुभ संकेत है। कांग्रेस क्या बदल रही है? क्या वह बदलाव चाहती...

31-Jul-2016

सोनिया गांधी : मातृसत्ता का अवसान

कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव से पहले अपने बच्चों को पार्टी की कमान सौंपने की तैयारी कर रहीं हैं। यह स्पष्ट है कि वह न केवल समय से पहले अर्ध-सेवानिवृत्ति लेने जा रही हैं बल्कि वह कांग्रेस को ऐसी अस्थिर अवस्था में छोड़कर जा रही हैं,...

18-Jul-2016

गुरु पूर्णिमा आत्म-बोध की प्रेरणा का शुभ त्योहार

पश्चिमी देशों में गुरु का कोई महत्व नहीं है विज्ञान और विज्ञापन का महत्व है परन्तु भारत में सदियों से गुरु का महत्व रहा है। जीवन विकास के लिए भारतीय संस्कृति में गुरु की महत्वपूर्ण भूमिका मानी गई है। गुरु की सन्निधि, प्रवचन, आशीर्वाद और अनुग्रह जिसे भी भाग्य...

10-Jul-2016

हे गंगे! तू क्या हो पाएगी निर्मला?

गंगा सिर्फ एक नदी नहीं है। वह हमारी आस्था और संस्कारों की आत्मा है। महाराज सगर के साठ हजार पुरुखों को मोक्ष दिलाने के लिए गंगा का अवतरण धरती पर हुआ। लेकिन हमें मोक्ष दिलाने वाली गंगा आज खुद मोक्ष चाहती हैं। गंगा को अगर यह मालूम होता है कि धरती पर उनका आगमन...

06-Jul-2016

दक्षिण एशिया में बढ़ता चरमपंथ भारत लिए खतरा

आतंकवाद आज वैश्विक चुनौती बन गया है। दुनिया भर के मुल्कों में इस्लामिक चरमपंथ अपनी जड़ें जमा रहा है। धर्म की आड़ में जेहाद और आतंकवाद का अमानवीय खेल खेला जा रहा है। बांग्लादेश के सबसे सुरक्षित इलाके गुलशन में शुक्रवार को हुआ आतंकी हमला हमारे लिए सबसे अधिक चिंता...

05-Jul-2016

सपनों की मायावी दुनिया का सच

स्वप्न का हमारे जीवन के साथ गहरा तादात्म्य है। स्वप्न क्यों आते हैं, उनका वास्तविक जीवन से क्या संबंध है, क्या स्वप्न सच के प्रतिबिम्ब होते हैं, क्या स्वप्न जीवन को प्रभावित करते हैं- ऐसे अनेक प्रश्न है जो बंद पलकों के पीछे की इस रोमांचक दुनिया से जुडे़ है।...

05-Jul-2016 नई दिल्ली

‘‘हलाल’’ प्रमाणित उत्पाद, गुणवत्ता की नई पहचान

हाजी शकील कुरैशी, भारत के जाने माने उद्यमी, निर्यातक और समाज सेवी ने अभियान को समर्थन देते हुए आम लोगों में ‘‘हलाल’’ सर्टीफिकेशन को लेकर जागरूकता बढ़ाने के लिए एक नए अभियान को अपना समर्थन दिया है।अंतरराष्ट्रीय मानक हमारे समाज का आधार हैं और वे उत्पादों और...

04-Jul-2016

क्यों गुम हो रहा है जीवन का संगीत?

जीवन का तब तक कोई मतलब नहीं होता जब तक इसे जीने वाला इसके लिये अर्थ न चुन ले। मानव जीवन का मूल्य तभी बढ़ता है जब आप जीवन को समझते हैं, जीवन के प्रति आपका सकारात्मक नजरिया होता है। क्लियरवाटर ने कहा भी है कि हरेक पल आप नया जन्म लेते हैं। हर पल एक नई शुरुआत...

10-Jun-2016

राजस्व एवं कृषि मंत्री एकनाथ खड़से के इस्तीफे के बाद भी महाराष्ट्र की सियासत में गर्मी का मतलब

महाराष्ट्र के राजस्व एवं कृषि मंत्री एकनाथ खड़से को आखिरकार इस्तीफा देना पड़ा। बावजूद इसके महाराष्ट्र की सियासत में तेज हुई गर्मी थमने का नाम नहीं ले रही है। भाजपा को लग रहा था कि इस्तीफे के बाद उस पर पड़ रहा विपक्षी दलों का चौतरफा वार कुछ थम जाएगा, मगर उसकी मुश्किलें...

05-Jun-2016

मथुरा हिंसा और सत्याग्रह की केंचुल

मथुरा में सत्याग्रह की आड़ में कानून हाथ में लिया गया। 'सत्याग्रहियों' ने हिंसा का रास्ता अपनाया और बेगुनाह पुलिस अफसरों को पीटकर और गोलियों से भून डाला। क्या कसूर था उन पुलिस अफसरों का? क्यों की गई उनकी हत्या ? रामवृक्ष के बेतुकी और सनकी मांगों को दो सालों...

03-Jun-2016

चौदह साल बाद इंसाफ पर सवाल कितना जायज?

वर्ष २००२ में हुए गुजरात के गुलबर्ग सोसायटी हत्याकांड पर स्पेशल एसआइटी कोर्ट ने फैसला सुनाते हुए दो दर्जन लोगों को दोषी जबकि ३६ लोगों को बेगुनाह करार दिया है। कोर्ट ने जिन ३६ लोगों को बरी किया है उनमें एक पुलिस इंस्पेक्टर और भाजपा नेता बिपिन पटेल शामिल है।...

29-May-2016

दिल, दल और दर्द

राजनीति में अक्सर दिलचस्प रिश्ते बनते हैं। इसमें दुहाई दिल की दी जाती है लेकिन दल, दर्द और पद लिप्सा के अलावा कुछ दिखाई नहीं देता। एक समय था तब बेनी प्रसाद वर्मा सपा में अमर सिंह के बढ़ते प्रभाव से बहुत नाराज हुए थे। अंतत: इसी मसले पर उन्होंने सपा छोड़ दी थी।...

24-May-2016

दूसरों की जिंदगी रोशन करने का सुख

वास्तविक खुशी और प्रसन्नता के कारणों पर कनाडा में एक शोध हुआ। उसके अनुसार धन की अधिकता से ही व्यक्ति प्रसन्नता महसूस नहीं करता है। बल्कि लोग अपना धन दूसरों पर खर्च कर ज्यादा प्रसन्न महसूस करते हैं। कोलंबिया यूनिवर्सिटी के शोधकर्ताओं का कहना है कि चाहे खर्च की...

12-May-2016

उत्तराखंड में फजीहत से कितना सीखेंगे सियासी दल?

सुप्रीम कोर्ट के निर्देश पर उत्तराखंड में हरीश रावत के फिर से सरकार बनाने का रास्ता साफ हो गया। हालांकि विधानसभा में शक्ति परीक्षण के तुरंत बाद ही स्थिति साफ हो गई थी, पर सुप्रीम कोर्ट के तय वैधानिक प्रावधान के चलते एक दिन बाद सरकार बनाने की प्रक्रिया शुरू हुई।...

08-May-2016

परदेश में दुश्वारियों के बीच गुदगुदाता तसव्वूर

सुनहरे भविष्य के सपने लिए भारत से भारी तादाद में लोग खाड़ी देशों में मज़दूरी करने जाते हैं। वहां उन्हें लगभग अमानवीय स्थितियों में रहना पड़ता है। कई बार ये मज़दूर दलालों के चंगुल में फंस कर अपना सब कुछ गवां बैठते हैं। यूं कहें कि थोड़े पैसे कमाने के लिए घर से बाहर...

07-May-2016

अक्षय तृतीया पर्व

अक्षय तृतीया पर्व वैशाख मास के शुक्ल पक्ष की तृतीया तिथि को मनाया जाता है। इस साल ९ मई २०१६ को मनाया जायेगा।किसी भी कार्य को करने के लिये कोई शुभ मुहुर्त ना मिल रहा हो तो नई शुरुआत करने के लिये अक्षय तृतीया का दिन बेहद शुभ माना जाता है। गोचर में शुक्र अस्त...

29-Apr-2016

अगस्ता वेस्टलैंड चॉपर पर सियासत की दिशा

आजकल भारतीय सियासत में अगस्ता वेस्टलैंड चॉपर जबरदस्त तरीके से चर्चा में है। यूपीए सरकार के दूसरे कार्यकाल में हुए अगस्ता वेस्टलैंड हेलिकॉप्टर सौदे से जुड़े कथित भ्रष्टाचार के मामले में आए इटली की अदालत के फैसले ने भले भाजपा को कांग्रेस के खिलाफ हमलावर कर दिया...

26-Apr-2016 राजीव रंजन तिवारी

बांग्लादेश में कट्टरपंथियों की सक्रियता का अर्थ

कुछ वर्ष पहले तक बांग्लादेश में अल्पसंख्यक हिन्दुओं के खिलाफ अभियान चलाया जाता रहा, लेकिन अब वहां की कहानी दूसरी दिशा में टर्न ले रही है। अब वहां के कट्टरपंथी भले गोपनीय तरीके से हिन्दुओं के खिलाफ अभियान चलाते हों, पर अब उनके निशाने पर अल्पसंख्यक हिन्दू...

22-Apr-2016

इसे कांग्रेस की जीत कहें या भाजपा की हार?

उत्तराखंड में लोकतांत्रिक ढंग से चुनी सरकार को पांचवें साल में अस्थिर करने, बर्खास्त करने, प्रदेश में राष्ट्रपति शासन लगा देने और फिर वहां सरकार बनाने की केंद्र और बीजेपी की कोशिशों को तब बड़ा झटका लगा जब नैनीताल हाईकोर्ट ने राष्ट्रपति शासन को गैरकानूनी करार दिया।...

03-Apr-2016

भारत-पाक रिश्ते में आड़े आ रहा ‘अहम’

अंकारा में तुर्की रेडियो एंड टेलीविजन (टीआरटी) नेटवर्क को सितम्बर 2013 में दिए साक्षात्कार में पाकिस्तानी प्रधानमंत्री नवाज शरीफ ने कहा था कि उनके देश के लोगों ने उन्हें भारत से रिश्ते सुधारने का जनादेश दिया है। क्षेत्र में टिकाऊ शांति की बहाली के लिए मैंने...

02-Apr-2016

बोर्ड यह सुनिश्चित करे- ओस न किसी को फले और न किसी का दिल तोड़े

लालची क्रिकेट बोर्ड को अब खेल के साथ मजाक करने से बाज आ जाना चाहिए। अकूत संपदा की मालिक बीसीसीआई ने जिस बैट-बल्ले से यह मुकाम हासिल किया, उसे अब इस खेल को ही सर्वोच्च वरीयता देनी होगी। इसके लिए जरूरी यह है कि क्रिकेट की जीत हो। कहने का तात्पर्य यह कि बेहतर...

30-Mar-2016

पाकिस्तान की संयुक्त जांच टीम के पठानकोट दौरे पर मोदी सरकार से सवाल

यह पहला मौका है जब किसी आतंकी हमले की जांच के सिलसिले में पाकिस्तान की टीम भारत आई, यह विचित्र है। जनवरी में पठानकोट के वायुसेना ठिकाने पर हुए आतंकी हमले की जांच के वास्ते पाकिस्तानी टीम के आने पर स्वाभाविक ही कई सवाल उठे हैं। मसलन, पाकिस्तान की जांच टीम...

28-Mar-2016

मोहाली में 'बल्लेबाजी देवता' विराट का विराट करिश्मा

दो राय नहीं कि यह भारतीय गेंदबाजी थी जिसने पहले चार ओवरों में पिटने के बाद ऐसा जबरदस्त पलटवार किया कि कंगारू अंतिम 16 ओवरों में कुल जमा 107 रन ही जोड़ सके। टॉस हार कर पहले गेंदबाजी पर बाध्य भारतीयों को फिर भी ऐसे विकेट पर 161 का ऐसा लक्ष्य मिला था जो लगातार...

27-Mar-2016

संविधान की दहलीज पर लोकतंत्र ने तोड़ा 'दम' !

उत्तराखंड में पिछले कई दिनों से जारी राजनीतिक संकट के बीच २७ मार्च को राष्ट्रपति शासन लागू कर दिया गया। कहा जा रहा है कि केंद्र सरकार ने यह फैसला राज्यपाल केके पॉल की रिपोर्ट के बाद लिया, जबकि २८ मार्च को मुख्यमंत्री हरीश रावत को विश्वास मत परीक्षण करना था। केंद्र...

08-Mar-2016

हां, मैं नारी हूं! कौन कहता है अबला हूं..

आधुनिक भारतीय समाज में स्त्रियों की सुरक्षा अधिक चिंता और बहस का केंद्रबिंदु बन गया है। यह सवाल संसद से लेकर सड़क तक तैर रहा है। नारी मर्यादा को उघाड़ने वाली कुछ वारदातों ने हमारी संस्कृति को दुनिया के सामने नंगा किया है। महिलाओं के प्रति बढ़ती हिंसा को लेकर...

05-Mar-2016

कब भ्रष्टाचार मुक्त होगा भारत?

भ्रष्टाचार एक भयंकर कोढ़ है, जिसकी व्यापकता समाज और राष्ट्र के लिए घातक है। यह हमारी जड़ो को खोखला करता जा रहा है। भ्रष्टाचार के विकराल होते चंगुल में फस कर देश की निरीह जनता आज कराह रही है। कल्याणकारी योजनाओं को भ्रष्टाचार का घुन तो चाट ही रहा है, अन्नदाता की...

03-Mar-2016

कन्हैया की जमानत के बाद अब सवालों की गूंज!

जवाहरलाल नेहरू विश्वविद्यालय (जेएनयू) छात्र संघ के अध्यक्ष कन्हैया कुमार को दिल्ली हाईकोर्ट ने अंतरिम जमानत दे दी है। २९ फ़रवरी को जमानत पर हुई बहस के बाद कोर्ट ने अपना फैसला सुरक्षित रख लिया था। कन्हैया को १२ फ़रवरी को दिल्ली पुलिस ने कथित तौर पर भारत विरोधी नारे...

view more >>

 

 

 

Photo Gallery

 

 

Video Gallery